This is for Chai-Lovers: चाय सिर्फ़ चाय ही नहीं होती...!

चाय सिर्फ़ चाय ही नहीं होती...! Written by: Sarita Wadhwani जब कोई पूछता है "चाय पियेंगे..?" तो बस नहीं पूछता वो तुमसे दूध ,चीनी और चायपत्ती को उबालकर बनी हुई एक कप   चाय के लिए। वो पूछता हैं... क्या आप बांटना चाहेंगे कुछ चीनी सी मीठी यादें कुछ चायपत्ती सी कड़वी दुःख भरी बातें..? वो पूछता है.. क्या आप चाहेंगे बाँटना

मुझसे अपने कुछ अनुभव ,

मुझसे कुछ आशाएं कुछ नयी उम्मीदें..? उस एक प्याली चाय के साथ वो बाँटना चाहता हैं.. अपनी जिंदगी के वो पल तुमसे जो "अनकही" है अब तक वो दास्ताँ जो "अनसुनी" है अब तक वो कहना चाहता है.. तुमसे ..तमाम किस्से, जो सुना नहीं पाया अपनों को कभी..

एक प्याली चाय के साथ को ....

अपने उन टूटें और खत्म हुए ख्वाबों को, एक और बार जी लेना चाहता है।

वह गर्म चाय की प्याली के साथ

उठते हुए धुएं में ,

कुछ पल को .

अपनी सारी फिक्र उड़ा देना चाहता है ,



"क्योंकि चाय सिर्फ चाय ही नहीं होती...."

71 views0 comments

Recent Posts

See All